Breathing to Heal Your Body and Mind: A Powerful Exercise

Breathing to Heal Your Body and Mind:
Breathing to Heal Your Body and Mind:

Breathing to Heal Your Body and Mind

A Powerful Exercise

Breathing to Heal Your Body and Mind: A Powerful Exercise

by Author Jayshree Chaudhary

Breathing to Heal Your Body and Mind: A Powerful Exercise
Breathing to Heal Your Body and Mind: A Powerful Exercise by JayShree Chaudhary

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

आज हम “साँसों” के बारे में बात करते है। हम प्रथम सांस द्वारा जन्म लेते है और अंतिम साँसों द्वारा शरीर को त्यागते है। सांस जीवन के लिए बिल्कुल ज़रूरी है। हम जिस तरह से सांस लेते है वो हमारे जीवन को दर्शाता है, लेकिन साँसों को अक्सर अच्छे स्वास्थ्य की आवश्यकता के रूप में अनदेखा किया जाता है।

Modern and Progressive Women Oriented Advertisements For Better India

बहुत से लोग यह भी जानते होंगे कि सांस हमारे मन और शरीर के बीच एकमात्र कड़ी है जो दोनो को जोड़े रखती है। जैसे ही हमारे शरीर का सांसो से संपर्क टूटता है, शरीर से संबंध भी टूट जाता है।
परन्तु यह बहुत कम लोग जानते है कि “हमारी साँसे” शरीर और मन को शुद्ध एवं पुर्नजन्म करने का शक्तिशाली व्यायाम है। यह वैज्ञानिक प्रमाणता केेे साथ आश्चर्यजनक सत्य है – “साँसों द्वारा शरीर और दिमाग/मन मे निर्मित विषाक्त प्रदार्थो की सफाई की जा सकती है।”

Breathing strongly influences physiology and thought processes, including moods. By simply focusing your attention on your breathing, and without doing anything to change it, you can move in the direction of relaxation. Too much attention on upsetting thoughts may cause anxiety, guilt and unhappiness. Get in the habit of shifting your awareness to your breath whenever you find yourself dwelling on stressful situations. 

शारीरिक, भावनात्मक और आध्यात्मिक शांति को बढ़ाने के लिए – “खुल कर पूर्ण रूप से सांस लेना” एक शक्तिशाली मंत्र के समान है। जब हम अपनी सांस को दबाते है या रोकते है तो हम वर्तमान में क्या हो रहा है, उसके साथ संपर्क खो देते है और जैसे ही हम साँसों पर अपना ध्यान केंद्रित करते है तो वर्तमान पल में आ जाते है। इसलिए कहा जाता है – “Present Moment is Inevitable.”

साँसों को लयबद्ध तरीके से लेना भी एक कला है, इसके नियमित अभ्यास से तनाव को शांत करने और भावनात्मक निर्माण में सहायता मिलती है।

Just do it now…
Take a deep Breath in… Breath out.
Repeat it 8-10 times in a minute without thinking.

Celebrity Instagram Valentine Post : Lovey-dovey Valentine’s Day pics

Enlightenment Through Breath
In Buddhist and yogic traditions, people claim to have reached an enlightened state by doing nothing more than paying attention to the rising and falling of their breath. What easier way could there be to reach such a state? Especially since breathing – following the ebb and flow of your breath – is an intrinsic part of meditation. By paying attention to your breath, you will rapidly change your state of consciousness, begin to relax, and slowly detach from ordinary awareness. Try to focus on the point between your in breath and out breath that is dimensionless, and glimpse the elements of enlightenment in that space.

Breathing is a miracle… Just do it. It keeps us ALIVE….
तो फिर क्यों नहीं दोस्तो साँसों को लयबद्ध तरीके से लेने की कला को सीखा जाएं.. है के नही? क्या बोलते आप…

Share It Pls, If You Loved this Story :)) Show Your Little Love!
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*